Explore October and more!

Explore related topics

जशपुर, मुंगेली, बिलासपुर, गरियाबंद, कोरबा जिले के किसानों के प्रतिनिधि यानि सहकारी समिति के सदस्यों ने नया रायपुर स्थित मंत्रालय भवन का अवलोकन किया. प्रशासनिक एवं सचिव ब्लाक का दौरा करते हुए यहाँ की व्यवस्थाओं के बारे में जाना. मंत्रालय के रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें मंत्रालय के कामकाज की जानकारी दी. आधुनिक जिम में व्यायाम के उपकरणों ने उन्हें बेहद लुभाया. प्रतिनिधियों ने साइकिलिंग, ट्रेड मिल, डम्बल्स आदि पर जोर आजमाइश की.

जशपुर, मुंगेली, बिलासपुर, गरियाबंद, कोरबा जिले के किसानों के प्रतिनिधि यानि सहकारी समिति के सदस्यों ने नया रायपुर स्थित मंत्रालय भवन का अवलोकन किया. प्रशासनिक एवं सचिव ब्लाक का दौरा करते हुए यहाँ की व्यवस्थाओं के बारे में जाना. मंत्रालय के रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें मंत्रालय के कामकाज की जानकारी दी. आधुनिक जिम में व्यायाम के उपकरणों ने उन्हें बेहद लुभाया. प्रतिनिधियों ने साइकिलिंग, ट्रेड मिल, डम्बल्स आदि पर जोर आजमाइश की.

बलरामपुर एवं सूरजपुर जिले के सहकारिता प्रतिनिधि नया रायपुर स्थित मंत्रालय भवन पहुंचे. जहाँ सुरक्षा व्यवस्था की प्रक्रिया से गुजरने के बाद उन्होंने विभिन्न हिस्सों का अवलोकन किया. मंत्रालय के रजिस्ट्रार भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें यहाँ के कामकाज की जानकारी दी. प्रशासनिक एवं सचिव ब्लाक देखने के बाद वे आधुनिक जिम में गए. प्रतिनिधियों ने यहाँ डम्बल्स उठाकर, साइकिलिंग कर अपना दम-खम दिखाया.

बलरामपुर एवं सूरजपुर जिले के सहकारिता प्रतिनिधि नया रायपुर स्थित मंत्रालय भवन पहुंचे. जहाँ सुरक्षा व्यवस्था की प्रक्रिया से गुजरने के बाद उन्होंने विभिन्न हिस्सों का अवलोकन किया. मंत्रालय के रजिस्ट्रार भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें यहाँ के कामकाज की जानकारी दी. प्रशासनिक एवं सचिव ब्लाक देखने के बाद वे आधुनिक जिम में गए. प्रतिनिधियों ने यहाँ डम्बल्स उठाकर, साइकिलिंग कर अपना दम-खम दिखाया.

हमर छत्तीसगढ़ योजना से 2 अक्टूबर से सहकारिता प्रतिनिधियों को भी जोड़ा गया है. आवासीय परिसर उपरवारा में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया. इस मौके पर सहकारिता समिति के सदस्यों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि सहकारिता समिति गांव के विकास का केन्द्र बने। सहकारिता से संबंधित योजनाओं का क्रियान्वयन बेहतर ढंग से करें, जिससे पूरे छत्तीसगढ़ का विकास होगा। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में छत्तीसगढ़ के धान की 23 हजार 250 किस्में देखने को मिलेंगी।

हमर छत्तीसगढ़ योजना से 2 अक्टूबर से सहकारिता प्रतिनिधियों को भी जोड़ा गया है. आवासीय परिसर उपरवारा में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया. इस मौके पर सहकारिता समिति के सदस्यों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि सहकारिता समिति गांव के विकास का केन्द्र बने। सहकारिता से संबंधित योजनाओं का क्रियान्वयन बेहतर ढंग से करें, जिससे पूरे छत्तीसगढ़ का विकास होगा। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में छत्तीसगढ़ के धान की 23 हजार 250 किस्में देखने को मिलेंगी।

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर पहुंचे जशपुर जिले के सहकारिता प्रतिनिधियों ने बस्तर के आदिवासियों के रहन-सहन, पारम्परिक विधाओं को करीब से देखा-समझा. विज्ञान केंद्र में विविध प्रयोगों के बारे में जानकारी ली. वन्यप्राणियों की मधुर आवाजें फोन के रिसीवर पर सुनकर आनन्द लिया. भार एवं मापन की विधियों के संबंध में उन्हें जानकारी दी गई.

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर पहुंचे जशपुर जिले के सहकारिता प्रतिनिधियों ने बस्तर के आदिवासियों के रहन-सहन, पारम्परिक विधाओं को करीब से देखा-समझा. विज्ञान केंद्र में विविध प्रयोगों के बारे में जानकारी ली. वन्यप्राणियों की मधुर आवाजें फोन के रिसीवर पर सुनकर आनन्द लिया. भार एवं मापन की विधियों के संबंध में उन्हें जानकारी दी गई.

सहकारिता समिति गांव के विकास का केन्द्र बने: डा. रमन सिंह

सहकारिता समिति गांव के विकास का केन्द्र बने: डा. रमन सिंह

सरगुजा जिले के सहकारिता प्रतिनिधि छत्तीसगढ़ विधानसभा पहुंचे. जहाँ उन्होंने प्रोजेक्टर पर विधानसभा की कार्यवाही का प्रसारण देखा. विधानसभा की संरचना के संबंध में उन्हें जानकारी दी गई. सदन के भीतर प्रतिनिधियों को विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री, पक्ष-विपक्ष के विधायकों की बैठक व्यवस्था के बारे में बताया गया.

सरगुजा जिले के सहकारिता प्रतिनिधि छत्तीसगढ़ विधानसभा पहुंचे. जहाँ उन्होंने प्रोजेक्टर पर विधानसभा की कार्यवाही का प्रसारण देखा. विधानसभा की संरचना के संबंध में उन्हें जानकारी दी गई. सदन के भीतर प्रतिनिधियों को विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री, पक्ष-विपक्ष के विधायकों की बैठक व्यवस्था के बारे में बताया गया.

जशपुर, मुंगेली, बिलासपुर, गरियाबंद, कोरबा जिले के किसानों के प्रतिनिधि यानि सहकारी समिति के सदस्यों ने नया रायपुर स्थित मंत्रालय भवन का अवलोकन किया. प्रशासनिक एवं सचिव ब्लाक का दौरा करते हुए यहाँ की व्यवस्थाओं के बारे में जाना. मंत्रालय के रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें मंत्रालय के कामकाज की जानकारी दी. आधुनिक जिम में व्यायाम के उपकरणों ने उन्हें बेहद लुभाया. प्रतिनिधियों ने साइकिलिंग, ट्रेड मिल, डम्बल्स आदि पर जोर आजमाइश की.

जशपुर, मुंगेली, बिलासपुर, गरियाबंद, कोरबा जिले के किसानों के प्रतिनिधि यानि सहकारी समिति के सदस्यों ने नया रायपुर स्थित मंत्रालय भवन का अवलोकन किया. प्रशासनिक एवं सचिव ब्लाक का दौरा करते हुए यहाँ की व्यवस्थाओं के बारे में जाना. मंत्रालय के रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें मंत्रालय के कामकाज की जानकारी दी. आधुनिक जिम में व्यायाम के उपकरणों ने उन्हें बेहद लुभाया. प्रतिनिधियों ने साइकिलिंग, ट्रेड मिल, डम्बल्स आदि पर जोर आजमाइश की.

हमर छत्तीसगढ़ योजना से 2 अक्टूबर से सहकारिता प्रतिनिधियों को भी जोड़ा गया है. आवासीय परिसर उपरवारा में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया. इस मौके पर सहकारिता समिति के सदस्यों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि सहकारिता समिति गांव के विकास का केन्द्र बने। सहकारिता से संबंधित योजनाओं का क्रियान्वयन बेहतर ढंग से करें, जिससे पूरे छत्तीसगढ़ का विकास होगा। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में छत्तीसगढ़ के धान की 23 हजार 250 किस्में देखने को मिलेंगी।

हमर छत्तीसगढ़ योजना से 2 अक्टूबर से सहकारिता प्रतिनिधियों को भी जोड़ा गया है. आवासीय परिसर उपरवारा में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया. इस मौके पर सहकारिता समिति के सदस्यों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि सहकारिता समिति गांव के विकास का केन्द्र बने। सहकारिता से संबंधित योजनाओं का क्रियान्वयन बेहतर ढंग से करें, जिससे पूरे छत्तीसगढ़ का विकास होगा। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में छत्तीसगढ़ के धान की 23 हजार 250 किस्में देखने को मिलेंगी।

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर में सूरजपुर जिले के सहकारिता प्रतिनिधियों ने विज्ञान के अभिनव प्रयोगों को माडल के माध्यम से जाना-समझा. यहाँ उन्होंने हवा में उड़ती गेंद, लक्समीटर, बस्तर की जीवनशैली, आदिवासियों के रहन-सहन, कुटुमसर गुफा, ब्लास्ट फरनेस, अनंत कुंआ आदि देखा. विज्ञान केंद्र में भ्रमण के दौरान प्रतिनिधियों में काफी उत्सुकता बनी रही.

छत्तीसगढ़ साइंस सेंटर में सूरजपुर जिले के सहकारिता प्रतिनिधियों ने विज्ञान के अभिनव प्रयोगों को माडल के माध्यम से जाना-समझा. यहाँ उन्होंने हवा में उड़ती गेंद, लक्समीटर, बस्तर की जीवनशैली, आदिवासियों के रहन-सहन, कुटुमसर गुफा, ब्लास्ट फरनेस, अनंत कुंआ आदि देखा. विज्ञान केंद्र में भ्रमण के दौरान प्रतिनिधियों में काफी उत्सुकता बनी रही.

सरगुजा जिले के सहकारिता प्रतिनिधि शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम पहुंचे. जहाँ उन्होंने महिला खिलाड़ियों के अभ्यास मैच का आनन्द लिया. टीवी पर स्टेडियम को कई बार देखा था. प्रत्यक्ष में स्टेडियम में खिलाडियों का खेल प्रदर्शन देखना, विशाल मैदान में हरियाली, दर्शक दीर्घा में आकर्षक कुर्सियां देख वे बेहद रोमांचित हुए.

सरगुजा जिले के सहकारिता प्रतिनिधि शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम पहुंचे. जहाँ उन्होंने महिला खिलाड़ियों के अभ्यास मैच का आनन्द लिया. टीवी पर स्टेडियम को कई बार देखा था. प्रत्यक्ष में स्टेडियम में खिलाडियों का खेल प्रदर्शन देखना, विशाल मैदान में हरियाली, दर्शक दीर्घा में आकर्षक कुर्सियां देख वे बेहद रोमांचित हुए.

Pinterest
Search